Hindustan Ki Kahani (हिंदुस्तान की कहानी) PDF – Pt. Jawaharlal Nehru

पंडित जवाहरलाल नेहरू की जिस पुस्तक की बड़ी उत्सुकता से प्रतीक्षा की जा रही थी वह “हिंदुस्तान की कहानी” पाठकों के सामने है। यह पंडितजी की अहमदनगर किले में कैदी की हालत में लिखी अंग्रेजी पुस्तक The Discovery of India का हिंदी अनुवाद है। इसमें पंडितजी ने मोहन-जोददो के काल से लगाकर आज की दुनिया के संघर्षों के बीच के हिंदुस्तान की कहानी कहकर भारत की चिरंतन, चैतन्य, अपरास्त, प्रगतिशील और विकसित आत्मा को प्रकाश में ला दिया है। 

इस पुस्तक के लेखक श्री डॉ. नगेन्द्र जी है। यह पुस्तक हिंदी भाषा में लिखित है। इस पुस्तक का कुल भार 37.54 MB है एवं कुल पृष्ठों की संख्या 738 है। निचे दिए हुए डाउनलोड बटन द्वारा आप इस पुस्तक को डाउनलोड कर सकते है।  पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र होती है। यह हमारा ज्ञान बढ़ाने के साथ साथ जीवन में आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करती है। हमारे वेबसाइट JaiHindi पर आपको मुफ्त में अनेको पुस्तके मिल जाएँगी। आप उन्हें मुफ्त में पढ़े और अपना ज्ञान बढ़ाये।

 

Writer (लेखक ) पंडित जवाहरलाल नेहरू, रामचंद्र टंडन
Book Language ( पुस्तक की भाषा ) Hindi | हिंदी
Book Size (पुस्तक का साइज़ )
37.54 MB
Total Pages (कुल पृष्ठ) 738
Book Category (पुस्तक श्रेणी) कहानी / Story, India / भारत

पुस्तक का एक अंश

हमें खेद है कि ‘हिंदुस्तान की कहानी’ के हिंदी रूप को सामने लाने में देरी-भहीं बहुत देरी हुई । पर इसमें आजकल के समय और परिस्थितियों का भी कम दोष नहीं है, जिनके कारण कोई भी काम विना विघ्न-बाधा के हो जाना प्रायः असंभव है। इसी कारण इसमें कुछ खामियां और ग़लतियां भी रह गई हैं, और खर्च भी बहुत पढ़ गया है। इसका हमें भान है। हमारा प्रयत्न होगा कि अगले संस्करण में ये कमियां दूर कर दी जायं। टाइप की खराबी के कारण इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ आदि की मात्राएं जगह-जगह टूट गई हैं। पाठकों से प्रार्थना है कि वे पढ़ते समय संदर्भ मिलाकर उनको ठीक कर लेने की कृपा करें।

मूल पुस्तक के बारे में कुछ कहना व्यर्थ है। काल और परिस्थिति की भट्टी में तपकर जवाहरलालजी का व्यक्तित्व और उनकी कृतियां निखर-निखर उठी है। पंडितजी जैसे एक विद्रोही से भारत सरकार के उपाध्यक्ष के महत्त्वपूर्ण शासन-कर्ता के पद पर पहुंचे हैं, उसी प्रकार उनकी कृतियां भी ‘पिता के पत्र पुत्री के नाम’, ‘विश्व इतिहास की झलक’, ‘मेरी कहानी’ से ‘हिंदुस्तान को कहानी’ तक पहुंची हैं।

अंग्रेजी में पुस्तक बहुत लोकप्रिय हुई है। उसे बहाँ-बदों ने और बहुतों ने सराहा है। और हाल ही दिल्ली में हुए एशियाई सम्मेलन के अवसर पर बंबई के इंडियन नेशनल थियेटर ने नृत्य-गीत ( Ballet) के रूप में सफलतापूर्वक इसका अभिनय किया है। हिन्दी-संस्करण की लोकप्रियता का अंदाज़ इसी से लगाया जा सकता है कि इस संस्करण की सारी प्रतियां बिक चुकी हैं, और काग़ज़ की सुविधा होते ही दूसरा संस्करण प्रेस में देने की तैयारी है।

जिन अनेक मित्रों और साथियों ने अपनी सलाहों. सुझावों और यत्नों से ‘हिंदुस्तान की कहानी’ को इस रूप में प्रस्तुत करने में योग दिया है, ‘मंडल’ उनका हृदय से आभार मानता है। इनमें डॉ. वासुदेवमारण अग्रवाल, सर्वश्री वियोगी हरि, जैनेंद्रकुमार, रामचंद्र टंडन, सुरेश शर्मा का उल्लेख करना ज़रूरी है, जिनकी सलाह और सहयोग के विना यह कार्य सुलभ न हो पाता।

डाउनलोड हिंदुस्तान की कहानी  
हिंदुस्तान की कहानी ऑनलाइन पढ़े
पुस्तक घर मंगाये

Leave a Comment